Wednesday, 1 April 2020

A Story Of Pain (Collage Life)

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम धर्मेंदर साहनी है। 
Hello Friends, My Name Is Dharmender Sahni.



इस कहानी मे मै आपको अपनी कॉलेज लाइफ के बारे मे बताना चाहता हूं। मैने जब 2009 मे अपनी 12th की पढाई पूरी करने के  बाद कॉलेज मे एड्मिशन लेने की कोशिश की थी। तब मुझे एड्मिशन लेने मे बहुत ज्यादा परेशानी हुई।
 In this story I want to tell you about my college life. When I tried to take admission in the college after completing my 12th studies in 2009. Then I had a lot of trouble taking admissions.  

Start Third Part.. 
कॉलेज लाइफ (Collage Life)
My First Collge (2010)

गुप्ता कॉलेज जैकबपुरा गुडगाँव मे  मैने पहली बार एड्मिशन लिया था।  इस कॉलेज में मैने कॉमर्स सेक्शन लिया हुआ था। ओपन बोर्ड होने के कारण  ज्यादातर पढाई मे परेशनी होती थी। लगभग 2 महीने कॉलेज मे बिताने के बाद अचानक मुझे पता लगा की कॉलेज मे उस साल होने वाले सारे पेपर कैंसिल हो गए। जिसके कारण मै बहुत ज्यादा परेशान हो गया ओर मेरा साल खराब ना हो इसलिए मैंने दूसरे कॉलेज मे एड्मिशन लेने की कोशिश करने लगा।
I took admission for the first time at Gupta College Jacobpura, Gurgaon. I had a commerce section in this college. Being an open board, most of the studies were disturbing. After spending almost 2 months in college, suddenly I came to know that all the papers in college that year were canceled. Due to which I got very upset and my year was not spoiled, so I started trying to get admission in other college.


My Second College (2010)

द्रोणाचार्य कॉलेज गुडगाँव इस कॉलेज में मैंने बहुत मुश्किल से एड्मिशन लिया था। कॉलेज मे मुझे एड्मिशन मिल तो गया पर मेरा फ्रेंड सर्कल ठीक ना होने के कारण मै हमेशा कॉलेज के बाहर रहता था। दोस्तो के साथ घूमना, क्लास बंक मार के पार्क मे बैठना, घर से निकल के कॉलेज नही जाना। दोस्तो के साथ फिल्म देखने जाना और  इसी साल मेरे पापा ने मुझे मेरी पहली बाइक दिलाई थी। (Hero Honda Super Splender) बाइक आने के बाद मै ओर भी पढाई से दूर होता चला गया। आखिर मे साल खतम होते होते मेरा कॉलेज भी छूट गया।
Dronacharya College Gurgaon I took admission in this college very rarely. I got admission in college, but I was always outside college because my friend circle was not good. Hanging out with friends, sitting in the park after class bunking, not leaving home and going to college. Going to watch a film with friends and this year my father got me my first bike. (Hero Honda Super Splender) After the arrival of the bike, I also went away from studies. Finally, by the end of the year, my college was also missed.

My Third College (2010)

इंद्रा गाँधी ओपन यूनिवर्सिटी साउथ एक्सेटेंशन दिल्ली। आखिर साल खतम हो गया था। घर पर जवाब भी देना था।  इस कारण मैने सर्टिफिकेट लेने के लिए दिल्ली मे किसी एजेंट से बात करके सारी सेटिंग कर रखी थी। पर 2 महीने वहां भी जाने के बाद मैंने वो कॉलेज भी छोड़ दिया। इन सब काम मे मेरे काफी ज्यादा पैसे खराब हुए। ओर मेरा कॉलेज ड्राप हो गया।

Indra Gandhi Open University South Extension Delhi. The year was finally over. Had to answer at home too. For this reason, I had set up the entire setting after talking to an agent in Delhi to get a certificate. But after leaving for 2 months there, I left that college too. In all these things, my money was lost. And my college got dropped.
           
धन्यवाद 
  Thanks For Reading

A Story Of Pain Next Parts..
  • बचपन लाइफ 
  • Childhood life
  • स्कूल लाइफ
  • School Life 
  • लव लाइफ
  • Love Life
  • जॉब लाइफ
  • Job Life  
  • फर्स्ट मैरिज
  • First Marrige  
  • सैकंड मैरिज
  • Second Marrige   
  • बिज़नेस लाइफ
  • Business Life 
  • थर्ड मैरिज
  • Third Marrige
  • पुलिस केस
  • Police Case 
  • बिज़नेस लाइफ लोस एक करोड़
  • Business Life Loss 10 Million 
  • डिप्रेशन लाइफ
  • Depression Life 
  • माय वेलविशर माय फ्रेंड 
  • My Wellwisher My Friend
  • बिज़नेस लाइफ अगेन एंड प्रॉफिट एक करोड़+
  • Business Life Again and Profit 10 million +





1 comment:

  1. Your college life stories are very interesting. I am really eager to know your next story.

    ReplyDelete